मकरासन से पायें तनाव से छुटकारा ,जानिए इसकी विधि

मकरासन से पायें तनाव से छुटकारा ,जानिए इसकी विधि

"मकरासन " हठयोग में वर्णित एक आरमदायक आसन है। योग में इस आसन को मगरमच्छ से प्रेरणा लेकर समाविष्ट किया है। मगरमच्छ जब पानी के बाहर निकलकर आराम करता है ,ठीक यही स्थिति मकरासन के अभ्यास करते समय साधक के शरीर की बनती है ,इसलिए इसे "मकरासन " या "मगरमच्छ आसन " के नाम से जाना जाता है। अपने रोज के आसनों या व्यायामों के होने के बाद जब आपका शरीर थकावट महसूस करता है ,तो आप इस आसन का अभ्यास कर सकते है। या फिर जब आप आसनों का अभ्यास समाप्त करने वाले हो ,उस समय भी आखिर में आप इसका अभ्यास करके शांति का अनुभव कर सकते है। ये शरीर को तनावरहित कर मांसपेशियों को राहत देने के लिए सर्वोत्तम आसनों में से एक है।






Makarasana In Hindi - मकरासन योग 

Makarasana In Hindi - मकरासन योग


  1. यह आसन  किसी शांत और स्वच्छ जगह पर करना सर्वथा उचित रहता है।
  2. सबसे पहले जमीन पर चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाए।
  3. अपने दोनों हाथों को सामने की और लाये। हाथों को कोहनियों से मोडे और कोहनियों को जमीन पर टिका दे।
  4. ध्यान रखे की आपकी कोहनियां आपके कंधों से दुरी बनाती हो या अलग हो। जब आप हाथों को जमीन पर टिकाते है ,तो अपनी हथेलियों को अपने दोनों गालों पर रखे और गर्दन को हाथों से सहारा दे। अपने कंधे एवं गर्दन सीधी रखे तथा अपनी दृष्टी को आगे की और बनाये रखे।
  5. इस स्थिति में आपका पूरा शरीर फर्श पर टिका होता है ,ध्यान रखे की पैरों की उँगलियों तक भाग जमीन से सटा हो। 
  6. इसी अवस्था में बने रहे श्वासों को सामान्य गति से लेते रहे और अपनी मांसपेशियों एवं दिमाग को आरामदायक स्थिति का अनुभव होने दे।
  7. जब तक आपका शरीर एवं दिमाग पूर्ण रूप से तनावरहित नहीं होता या आरामदायक मुद्रा की अनुभूति नहीं कराता ,तब तक इसी अवस्था में बने रहे।
  8. एक मिनट तक रुकने के बाद अपनी गर्दन को निचे करे और सामान्य स्थिति में आ जाएँ। 
  9. नियमित "मकरासन "  के अभ्यास से समय अवधि बढ़ाते जाए ,
  10. अभ्यास  करते समय  अपने हाथ ,गर्दन ,पैरों में होनेवाले खिचाव को महसूस करना चाहिए।
  11. जब आप इसका अभ्यास करते है ,तो अपने शरीर को पूर्ण रूप से स्वतंत्र छोड़े ,उसे पूर्ण आराम की अनुभूति होने दे ,तथा अपने मन को समर्पित रखे।
  12. यह आसन करते समय हमें अपना ध्यान अपनी श्वासों पर केंद्रित करना चाहिए।










 Health Benefits Of Makarasana In Hindi - मकरासन के लाभ




  1. यह आसन  कंधों एवं मेरुदंड की मांसपेशियों पूर्ण राहत प्रदान करता है।
  2. यह दमा ,अस्थमा ,पुरानी खांसी जैसे श्वसन विकारों को चिकित्सकीय पद्धतिसे दूर करता है।
  3. यह आसन स्लिप डिस्क यानि कटिस्नायुशील ,स्पॉडिलिटिस जैसे रोगों में लाभकारी है।
  4. मकरासन श्वसनक्रिया को मजबूत बनाता है ,तथा फेफड़ों की कार्यक्षमता को बढ़ाता है।
  5. यह खून की गति को संतुलित रखता है तथा शरीर में भरपूर  मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचाता है।
  6. यह शुद्ध प्राणवायु का संचार करता है ,जिससे शरीर तेजस्वी और कांतिवान बना रहता है।
  7. इसका नियमित अभ्यास स्मरणशक्ति विकसित करने के लिए उत्तम आसन है ,मकरासन योग मस्तिक्ष को ठंडा एवं शांत बनाये रखता है ,जिससे व्यक्ति जीवन में उचित निर्णय लेने में सक्षम बनता है।
  8. यह तनाव ,डिप्रेशन ,अवसाद ,तथा मानसिक समस्याओं के लिए उपयुक्त आसन है।
  9. प्रतिदिन मकरासन के अभ्यास से आप लंबी एवं गहरी श्वास लेते है ,जो आपकी प्राकृतिक श्वास होती है,इससे आप अपने आप को प्रकृति के और समीप पाते है तथा निरोगी जीवन जीते है।
  10. यह प्राणशक्ति बढ़ाता है जिससे मनुष्य लंबी आयु  प्राप्त करता है।
  11. ये आसन शरीर को प्राकृतिक रूप से सुसज्जित करता है और शांति ,दृढ़ता ,समर्पण जैसी भावनाओं को उजागर करता है।





Things To Know Before You Do Makarasana Pose - ध्यान रखने योग्य बाते






  • सुबह सूर्योदय के समय खाली पेट और साफ़ आतों के साथ "मकरासन " करना सबसे अच्छा है।
  • यह शरीर को ठंडा और आराम देने के लिए किया जाता है,इसलिए योगसत्र के अंत में इसका अभ्यास करना एक अच्छा निर्णय होगा।
  • अगर आप केवल इसी आसन का अभ्यास करना चाहते है ,तो यह आवश्यक नहीं की आपका पेट खाली हो। 
  • परंतु आप अगर इसे नियमित योगसत्र के साथ करते है ,तो भोजन और अभ्यास में आपको ५ से ६ घंटे का अंतर रखना चाहिए।
  • सुबह अभ्यास  करना अगर आपके लिए संभव ना हो ,तो आप इसे शाम को भी कर सकते है।.
  • जब कभी भी आप शरीर में थकावट महसूस करें,उस समय आप मकरासन का अभ्यास कर तनाव को दूर कर सकते है। 







Precautions For Makarasana Yoga - मकरासन में सावधानी



  • मकरासन का अभ्यास  कोई भी व्यक्ति कर सकता है ,लेकिन अगर आप पीठ या गर्दन के चोटों से पीड़ित है तो आपको इस आसन से बचना चाहिए।
  • गर्दन पर झटका या पीड़ा महसूस होती हो तो गर्दन को सरलता से उठाये तथा कोई जोर जबरदस्ती ना करे।
  • अगर आप किसी मनोवैज्ञानिक मुद्दों या समस्याओं से पीड़ित है तो इस आसन का अभ्यास करने से पूर्व अपने चिकित्सक (डॉक्टर) की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।
  •  पहली बार  किसी योग्य गुरु के निर्देशन में ही योगाभ्यास शुरू करे।






आशा है की आपको "मकरासन से पायें तनाव से छुटकारा ,जानिए इसकी विधि " के बारे जानकारी मिल चुकी होगी। फिर भी अगर आपके मन में कुछ सवाल हो ,या कुछ पूछना चाहते है ,तो आप कमेंट कर के पूछ सकते है। 

2 comments

  1. http://livecoronavirusupdates.ndenterprise.co.in/



    best live updates about corona virus a

    ReplyDelete
  2. Hi! Great thanks for sharing awesome information. I really love to read your blog.

    Would you like to see my blog = https://sonumes.blogspot.com/

    ReplyDelete